Search This Blog

Thursday, 27 July 2017

एकाधिकार

आज एक बेटी कर्तव्यों से मुख मोड़ आई है
दर्द में तड़पती माँ को बेबस छोड़ आई है।
बेटी है बेटी की माँ भी है माँ का दर्द जानती है
माँ के प्रति अपने कर्तव्यों को भी खूब मानती है
बेटों के अधिकारों के समक्ष खुद को लाचार पाई है
दर्द में तड़पती माँ को बेबस छोड़ आई है।

अपनी हर संतान पर माँ का स्नेह बराबर होता है
पर फिर भी बेटों का मात-पिता पर एकाधिकार होता है
जिसको अपने हिस्से का निवाला खिलाया होता है
उसके ही अस्तित्व को जग में पराया बनाया होता है
कब बेटी ने स्वयं कहा कि वह पराई है
दर्द में तड़पती माँ को बेबस छोड़ आई है।
मालती मिश्रा

No comments:

Post a Comment