Search This Blog

Sunday, 30 July 2017

अस्तित्व

शय्या पर पड़ी शिथिल हुई काया
जो सबको है भूल चुकी,
अपनों के बीच अनजान बनी
अपनी पहचान भी भूल चुकी।
तैर रही कोई चाह थी फिरभी
बेबस वीरान सी आँखों में,
लगता जीवन डोर जुड़ी हो
खामोश पुकार थी टूटती सांसों में।
ढूँढ रहीं थीं कोई अपना
लगे कोई जाना-पहचाना,
हर एक चेहरे को किताब मान
पढ़ने को दिल में था ठाना।
अंजाने से चेहरों में थी 
तलाश किसी अपने की,
मानो अब भी बची हुई थी 
इक आस किसी सपने की।
तभी किन्हीं अनसुने कदमों की 
आहट से भाव बदलते देखा,
मुरझाए मृतप्राय हो चुके
चेहरे पर उमंग खिलते देखा।
देख नहीं पाई थीं जो
सचेत सजग जागती इंद्रियाँ,
सुप्तप्राय इंद्रियों को उस
आगंतुक की राह तकते देखा।
चमक उठीं वीरान सी आँखें
अधरों में कंपन थिरक उठा,
अंजाने हो चुके चेहरों में
बेटी का चेहरा जब मुखर हुआ।
टूट गया बाँध सब्र का
अश्रुधार बस बह निकली,
क्षीण हो चुकी काया की बेबसी
बिन बोले सब कह निकली।
माँ की अनकही अनसुनी बेबसी
बेटी के हृदय को चीर गए,
उसकी आँखों में तैर गई बेबसी
कैसे वह माँ का पीर हरे।
जो ईश हमारी सदा रही
जो सदा रही है सर्वश्रेष्ठा,
व्याधियों के वशीभूत हो
उसकी काया हुई परहस्तगता।
पुत्री उसे कैसे देखे अशक्त
जो उसमें भरती थी शक्ति सदा,
जिसने किया मार्ग प्रशस्त सदा
जिससे उसका अस्तित्व रहा।
बन ज्योति जीवन में दमकती जो रही
बन मुस्कान अधरों पर थिरकती जो रही,
वह निर्मम व्याधियों के शिकंजे में फँसी
निरीह निर्बल अशक्त हुई।
गर रही न कल ममता उसकी
अस्तित्व मेरा भी खत्म अहो,
डोर जुड़ी जिससे है मेरी
वह बाँधूँगी फिर किस ठौर कहो।।
मालती मिश्रा

2 comments:

  1. मर्मस्पर्शी रचना।।।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर आने और अपनी प्रतिक्रिया से अवगत कराने के लिए बहुत-बहुत आभार पुरुषोत्तम जी।

      Delete